दीपावली महापर्व पर विशेष :







   

ऐसे करें अंधकार को प्रकाशित

....................................

बैंकों की तर्ज पर हो सभी शिक्षालयों का राष्ट्रीयकरण :


भारतीय संविधान में दिये समानता के अधिकार के तहत लिंग न्याय को ध्यान में रखते हुये मा. भारतीय सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश महोदय को किसी भी मामले में भारतीय जनजीवनहित में व उनके सर्वोच्चन्यायहित में व्यक्तिगत संज्ञान लेते हुये अपने फैसले के तहत भारत की केन्द्र सरकार एवं समस्त राज्यों की सरकारों को शीघ्रातिशीघ्र अपने तत्काल प्रभाव से आदेशित करना चाहिये कि वह भारत के समस्त कानूनों में तथा वर्तमान सभ्य भारतीय समान नागरिक आचार संहिता में भारतीय नागरिकों के विवाह, जन्म व मृत्यु के पंजीकरण, बीमाकरण व लाईसैंसीकरण के अधिनियमों के तहत संचालित भारतीय नागरिकों के विवाह, जन्म व मृत्यु के पंजीकरण, बीमाकरण व लाईसैंसीकरण के सर्वोच्च न्यायिक दस्तावेजी साक्ष्य अभिलेखानुसार विवाहित, जन्में व मृतक स्त्री, पुरूष व किन्नर भारतीय नागरिक व्यक्ति की समदर्शी, पारदर्शी एवं सर्वोच्च न्यायिक स्पष्ट परिभाषा दर्ज कर इन अधिनियमों का उल्लंघन अक्षम्य अपराध दर्ज करें तथा इन अधिनियमों का उल्लंघन गैरजमानती संज्ञेय अर्थ व मृत्यु दंडनीय अक्षम्य अपराध भारतीय अपराध दंड संहिता में दर्ज कर इनका सैशन ट्राईल भारतीय अपराध दंड प्रक्रिया संहिता में दर्ज करें और भारतीय नागरिकों के फोटो पहिचान के सभी प्रकार के राजनीतिक समाजी सरकारी व मतकारी, आर्थिक समाजी अर्द्धसरकारी व कर्मचारी एवं सामाजिक समाजी निजीकारी व श्रमकारी दस्तावेजों में दाखिल एवं खारिज प्रत्येक विवाहित, जन्मिक व मृतक स्त्री, पुरूष व किन्नर भारतीय नागरिक व्यक्ति की विवाहित, जन्मिक व मृतक जीवन की सर्वोच्च न्यायिक दस्तावेजी साक्ष्य पहिचान उसके विवाह तिथि, जन्मतिथि व मृत्युतिथि की वैधानिक पंजीकृत संख्या, संवैधानिक बीमाकृत संख्या एवं कानूनी लाईसैंसीकृत संख्या सम्बंधित संयुक्त कार्यालय के नाम पता सहित अनिवार्य एवं परमावश्यक रूप से दर्ज कर प्रत्येक भारतीय नागरिक को पंजीकृत वैधानिक सभ्य सरकारी व मतकारी राजनीतिक समाज का आदर्श गौरवशाली, बीमाकृत संवैधानिक सभ्य अर्द्धसरकारी व कर्मचारी आर्थिक समाज का महान प्रतिभाशाली एवं लाईसैंसीकृत कानूनी सभ्य निजीकारी व श्रमकारी सामाजिक समाज का महानतम् मर्यादाशाली संस्कारित, शिक्षित एवं सुरक्षित व संरक्षित सभ्य भारतीय नागरिक अपराधमुक्त सदस्य बनाया जा सके तथा उसे अपने सृजनशील जीवन का उद्देश्य पूरा किये जाने हेतु उसकी इच्छा व शिक्षा योग्यतानुसार बिना किसी बाधा के उसे समान सरकारी व मतकारी, अर्द्धसरकारी व कर्मचारी एवं निजीकारी व श्रमकारी आजीविका व पैंसन तथा समान बुनियादी सेवायें व सुविधायें प्राप्त करवायी जाकर रोजगारयुक्त स्मृद्धिशाली, वैभवशाली एवं विश्व विजयी सैन्यशक्तिशाली सभ्य भारतीय नागरिक बनाया जा सके जिससे शदियों से चले आ रहे लिंग अन्याय व अशिक्षा को मिटाया जा सके|
         जिस प्रकार भारत की सभी बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ है वैसे ही भारत की समस्त अनौपचारिक शिशु शिक्षालय से लेकर विश्व विद्यालय तक के सभी शिक्षालयों का भी हो राष्ट्रीयकरण जिससे की शिक्षा के महत्व को प्राथमिकता के आधार पर सभी तक समानता से पहुंचाया जा सके और भावी पीढ़ी को सर्वोच्च न्यायिक महत्वपूर्ण सभ्य भारतीय नागरिक बनाया जा सके | शिक्षा के साथ स्वास्थ्य, पोषण, खेलकूद, सैन्यशिक्षा एवं प्रशिक्षित अध्यापकों की कमी न आ सके | भारत का सर्वाधिक बजट शिक्षा व सुरक्षा पर व्यय हो ऐसी नीति बनायी जा सके जिससे कि शिक्षा को समान व सही रूप से सभी तक अनिवार्य एवं परमावश्यकरूप से उपलब्ध कराया जा सके जिससे भारत की प्रगति एवं विकास की गति तीव्र की जा सके | भारत के सभी अनौपचारिक शिशु शिक्षालय से लेकर विश्वविद्यालय तक के सभी शिक्षालय राष्ट्रीय खर्चे से चलायें जा सकें | राष्ट्र की ओर से प्रत्येक शिक्षालय में सरल से कठिन की ओर पढ़ने व पढ़ाने की पाठ्यसामग्री समय से सभी शिक्षार्थियों एवं शिक्षकों को प्राप्त करवायी जा सके | सभी को सरल से कठिन की ओर गुणवत्तायुक्त सदैव स्मरण रहने वाली श्रैष्ठ शिक्षा सर्वसुलभ प्राप्त करवायी जा सके | राष्ट् के सभी शिक्षालयों का राष्ट्रव्यापी समान पाठ्यक्रम स्मरणीय सरल से कठिन की ओर हो| सभी शिक्षालय भवन भूकम्परोधी, अग्निरोधी एवं परमाणु विकरणरोधी तथा समस्त हाईटैक समान बुनियादी सेवाओं व सुविधाओं से युक्त हों | सभी शिक्षकों एवं शिक्षार्थियों का अपना पू्र्व निर्धारित समान यूनीफोर्म ड्रैस हो | सभी शिक्षालय अवकाश प्राप्त सैनिकों से निर्वाधरूप से सुरक्षित हों | सभी शिक्षालयों में सैन्यशिक्षा /एनसीसी अनिवार्य हो तथा प्रत्येक सक्षम शिक्षार्थी कम से कम एक वर्ष भारतीय सेना में सेवारत् हो | प्रत्येक जनपद में अनौपचारिक शिशु प्रशिक्षण ये लेकर विश्वविद्यालयी प्रशिक्षण संस्थान संचालित हो | प्रशिक्षित शिक्षिका एवं शिक्षक की नियुक्ति उसके जनपद के सामान्य निवास ब्लॉक स्तर पर ही हो | प्रत्येक शिक्षक को राष्ट्रव्यापी समान वेतन तथा समान बुनियादी सेवायें व सुविधायें समान समय पर बिना किसी बाधा के उपलब्ध हों | रिटायरमेंट के समय शिक्षिकाओं एवं शिक्षकों के समस्त बकाया धन उसे अपने शिक्षालय में विदायी समारोह से पूर्व बिना किसी बाधा के हर हालत में प्राप्त हो | प्रत्येक शिक्षिका एवं शिक्षक निर्वाचन आदि अतिरिक्त कार्य से मुक्त हो | प्रत्येक शिक्षालय में क्लर्कों का स्टॉफ हो जिससे शिक्षक एवं शिक्षिका अध्ययन एवं अध्यापन कार्य में कोई बाधा न हो | समस्त शिक्षालयों में परीक्षायें समान राष्ट्रव्यापी एक ही समय पर हों और परीक्षा परिणाम भी एक ही समय पर प्रकाशित हों | सभी प्रश्नपत्र राष्ट्रव्यापी समान हों | प्रत्येक शिक्षिका एवं शिक्षक को विशेष रियायती स्वास्थ्य एवं यातायात सुविधा आजीवन प्राप्त हो | प्रत्येक शिक्षालय अनुशासन एवं समानता के मामले में धर्म, जाति, समुदाय, लिंग, रंगरूप, आकार प्रकार, अमीरी-गरीबी इत्यादि की असमानता की बदनियति एवं बदनीति के धोखाधड़ी के षड़यंत्र से मुक्त हों | प्रत्येक शिक्षालय के छात्र प्रवेश फार्म एवं पंजीयन अभिलेख में अविवाहित एवं विवाहित छात्र एवं छात्रा की जन्मतिथि एवं विवाहतिथि की वैधानिक पंजीकृत, संवैधानिक बीमाकृत एवं कानूनी लाईसैंसीकृत संख्या सम्बंधित संयुक्त कार्यालय के नाम पता सहित दर्ज की जानी अनिवार्य एवं परमावश्यक हो| इसी प्रकार छात्र एवं छात्रा के माता पिता की जन्मतिथि एवं विवाहतिथि तथा मृतक माता या पिता या दोनों मृतक माता पिता के मृत्यु तिथि की वैधानिक पंजीकृत, संवैधानिक बीमाकृत एवं कानूनी लाईसैंसीकृत संख्या सम्बंधित कार्यालय के नाम पता सहित दर्ज हो| जिससे कि शिक्षालयों में जैंडर अनजस्टिस को समाप्त किया जाकर तथा जैंडर जस्टिस को स्थापित किया जाकर समान राष्ट्रवाद को पुर्नस्थापित किया जा सके और संस्कारिक, शिक्षित, सुरक्षित एवं संरक्षित होने का मूल सर्वोच्चन्यायिक उद्देश्य पूरा हो सके | जिससे कि कोई भी शिक्षा की फर्जी प्रमाणपत्र व डिग्री एवं पहिचानपत्र प्राप्त न कर सके |
     फिनलैंड एक ऐसा छोटा देश है जिसने शिक्षा के महत्व को समझा और सभी तक प्राथमिकता से समानरूप से पहुंचाया है | जहाँ उपरोक्त समस्त व्यवस्थायें मौजूद हैं | इसी प्रकार कुछ सम्बंधित देशों की शिक्षा में प्रत्येक स्तर पर सैन्यशिक्षा अनिवार्य है | जहाँ सक्षम शिक्षार्थी को निर्धारित समय के लिये वहाँ की सेना में सेवारत् रहना होता है |
     अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सन् 2001-02 के स्मरण शक्ति प्रशिक्षण के "पीसा" प्रोग्राम में भारत 73 देशों में 72 वें स्तर पर आया था | तब से लेकर बाद के चक्रों में भाग लेने से भारत पीछे हट गया और अब तक सामिल नहीं हुआ | भारत में प्रगति एवं विकास का समान लाभ तभी सभी को सम्भव है जब सभी को श्रेष्ठ गुणवत्तायुक्त सर्वसुलभ समान संस्कारित शिक्षा व सर्वोच्च प्रबंधन उपरोक्त प्रकार से प्राप्त हो |भारत में जिन्हें यह जिम्मेदारी प्राप्त है वे सिर्फ शब्दों से खेलते रहे और प्रगति व विकास के नाम पर आंकड़े परोसते रहे | उन्होने न तो अपनी जिम्मेदारी निभाई बल्कि संस्कारों एवं शिक्षा की शाख ही तिरोहित कर दी | अच्छे संस्कार एवं शिक्षा ही राजनीतिक, आर्थिक व सामाजिक परिवर्तन का आधार है | एक सफल व्यक्ति की तुलना में अच्छे व्यक्ति की उपलब्धि काफी समय तक स्मृति में रहती है |
     अत:, भारत के मा. सर्वोच्च न्यायालय के, केन्द्र एवं सभी राज्यों के संस्कृति एवं शिक्षा के मानव विकास संसाधन मंत्रालयों को एवं देश की केन्द्र सरकार व समस्त राज्यों की सरकारों को भारत को आश्चर्यजनक सभ्य विकासशील राष्ट्र बनाने के लिये उपरोक्त कदम उठाने चाहिये | इस प्रकार हम अपने राष्ट्र के अंधकार को प्रकाशित कर सकते हैं और दीपावली के इस महापर्व पर एक दीपक उन महिलाओं के नाम जो जैण्डर जस्टिस पाने के लिये शहीद हो गयीं और शेष दीपक उन महिलाओं के नाम जो जैंडर जस्टिस पाने के लिये जैंडर अनजस्टिस का डटकर मुकाबला कर रहीं हैं|

आकांक्षा सक्सेना
ब्लॉगर समाज और हम






Comments

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |