खिलवाड़

.......................


मत मांगिये किसी से साथ,यहाँ
लोग समझ बैठते है खुद को भगवान

मत कीजिये किसी से उम्मीद
लोग समझ बैठते है खुद को तकदीर

मत सुनाईये अपने दर्द की दास्तान
लोग समझ लेगें आपको कमजोर

मत कीजिये खुद को जाहिर
लोग उड़ायेगें सिर्फ मजाक

मत कीजिये दोस्ती से प्यार
लोग समझते है इसे खिलवाड़


स्वलिखित
5:30am
Date 4/03/2016

आकांक्षा सक्सेना
जिला औरैया
उत्तर प्रदेश



Comments

  1. Dear Akansha
    Thanks for this update. You write quite well on burning topics of India. Keep it up... Good wishes

    ReplyDelete
  2. Duniya itni bhi buri nahi hai. Apne lekhni me posivity bhi lao. Life has full of positive possibilities also... Its my point of view, I may be wrong also..
    Regards

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |