रक्तदाता दिवस 14 जून पर विशेष :




                  रक्तदाता दिवस

        .........................................


विश्व रक्तदाता दिवस (14 जून)
पर विशेष :
................................................

स्वेच्क्षा से करो रक्त दान 
जीवन बचाओ करो नेक काम

14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस है आप जानते ही होगें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रक्तदान को बढ़ावा देने के लिए 14 जून को ही विश्व रक्तदाता दिवस के तौर पर क्यों चुना ! दरअसल कार्ल लेण्डस्टाइनर (जन्म- 14 जून /1868- मृत्यु-26 जून 1943) नामक अपने समय के विख्यात ऑस्ट्रियाई जीवविज्ञानी और भौतिकीविद् की याद में उनके जन्मदिन के अवसर पर यह दिन तय किया गया है इन्होंने रक्त में अग्गुल्युटिनिन की मौजूदगी के आधार पर रक्त का अलग अलग रक्त समूहों - ए, बी, ओ में वर्गीकरण करके चिकित्साविज्ञान में मानवताहित में लोककल्याणहेतु अपना अहम योगदान दिया और इसी दिन विश्वभर में लोग स्वेच्क्षा से रक्तदान करते हैं पर जिस हिसाब से करना चाहिये उस हिसाब से आज भी लोग स्वेच्छित रक्तदान करने से हिचकिचाते हैं पर यह सोच उनकी तब बदल जाती है जब कोई उनका रक्त की कमी से जूझ रहा होता है | आज भी देश का रक्तदाता उतना जागरूक नहीं हो पाया है जितना सही मायनों में होना  आवश्यक है | हम लोग की विकृत मानसिकता के कारण आज भी भारत में हर साल 15 लाख लोगों की रक्त की कमी के कारण मौत हो जाती है और कई दुर्घटनाओं में रक्त की समय पर आपूर्ति न होने के कारण अकाल काल के गाल में समा जाते हैं जो बहुत ही दुखद बात है | हम इतने भी मॉर्डन और हाई-फाई न हो जायें कि दया जैसा सद्गुण हमसे दूर हो जाये |दोस्तों विकास पैसे की अमीरी को ही नही कहते विकास तो मदद के भाव की ऊंचाई को कहते हैं | दोस्तों हम इंसान क्या इतने कमजोर हो गये हैं कि आज इंसान को ही इंसान को रक्त खरीदना पड़ रहा | दोस्तों आज भी स्वेच्छा से रक्तदान के आकड़े संतोषजनक नहीं है जो बहुत ही गम्भीर बात है | अपने देश में विकास की हालत का अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि अब तक देश में एक भी केंद्रीयकृत रक्त बैंक की स्थापना नहीं हो सकी है जिसके माध्यम से पूरे देश में कहीं पर भी खून की जरूरत को पूरा किया जा सके | रक्तदान में सबसे बड़ा पेच है रक्त का व्यापार | सबसे बड़ी दिक्कत यही है कि देश-दुनिया में सर्वप्रथम रक्त का ये व्यापार बन्द हो | हर साल 14 जून को 'रक्तदाता दिवस' मनाया जाता है जिसका 1997 में यही लक्ष्य रखा गया था कि विश्व के प्रमुख 124 देश अपने यहाँ स्वैच्छिक रक्तदान को ही बढ़ावा देगें  जिससे कि रक्त की जरूरत पड़ने किसी भी दुखी और पीड़ित व्यक्ति को उसके लिए पैसे देने की जरूरत न पड़े पर अब तक लगभग 49 देशों ने ही इस पर अमल किया है। तंजानिया जैसे देश में 80 प्रतिशत रक्तदाता पैसे नहीं लेते, कई देशों जिनमें भारत भी शामिल है, रक्तदाता पैसे लेता है यह बहुत ही शर्मनाक बात है | हम धन में बढ़ गये पर ईमान से इतने गिर गये | हमारा देश का डीएनए तो दाता था फिर यह मानसिकता में बदलाव क्यों | दोस्तों  रक्तदान करने वाले राज्यों की सूची में म.प्र. की में रक्त दान प्रतिशत की बात करें तो वर्ष 2006 में 56.2 प्रतिशत, वर्ष 2007 में 65.17 प्रतिशत, वर्ष 2008 में 68.75 प्रतिशत के लगभग रहा और हरियाणा की स्थति में इजाफा हुआ जिसमें अब तक के सर्वाधिक 210 यूनिट का रिकॉर्ड 256 के साथ  तोड़ दिया जो कि काबिले तारीफ है | केवल चूरू का यह आंकड़ा 80 प्रतिशत तक का है। यूथ वर्ग अपनी मर्जी से रक्त दान कर रहे हैं | 2005 में 266, 2006 में 171, 2007 में 216 और 2008 में 370 यूनिट रक्त विभिन्न शिविरों के माध्यम संग्रहित किया गया था। चुरू में तो 2015 में ही सात हजार 219 रक्तदाता ने रक्तदान किया | बाकि सब पिछड़े हैं | भारतवर्ष की कुल आबादी की एक प्रतिशत जनसंख्या भी रक्तदान नहीं करती | रक्त दान के मामले में थाईलैण्ड में 95 फीसदी, इण्डोनेशिया में 77 फीसदी और बर्मा में 60 फीसदी हिस्सा रक्तदान से पूरा होता है। भारत में  मात्र  46 लाख लोग स्वैच्छिक रक्तदान करते हैं। इनमें महिलाएं मात्र 06 से 10 प्रतिशत हैं। दोस्तों यह है रक्त दान के आकंडे | आज भी हमारे देश के बड़े शहरों में ब्लड बैंक हैं पर छोटे शहरों, जिलों में ब्लड बैंक नहीं हैं और गांवों की स्थिति तो और भी खराब हैं जहां का हर पीड़ित अच्छे डाक्टर और सही इलाज की बस शदियों से बांट जौह रहे हैं पर गांव का गरीब आज भी झोलाझाप डॉक्टर के भरोसे है जो बहुत गम्भीर और दुखद पहलू है | जागरूकता के लिये पहल दोस्तों हमें और आप को ही करनी होगी तभी कुछ सुधार हो सकेगा | विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट कहती है कि यदि देश में 5 प्रतिशत लोग स्वेच्छित रक्तदान करें तो काफी हद तक रक्त की पूर्ति हो सम्भव हो सकती है | दोस्तों चूंकि मौका है रक्तदाता दिवस तो रक्त दाता के रूप में हम  हैदराबाद के फैमस समाजशास्त्री श्री योगेश राज श्रीवास्तव जी का नाम कैसे भूल सकते हैं जिन्होंने 112 बार रक्तदान किया और यहाँ तक कि अपने शरीर के 9 महत्वपूर्ण अंगों का भी दान कर अपना पूरा जीवन लोकहित के नाम कर दिया जिनपर एक डाक्यूमेन्ट्री फिल्म भी आयी "रक्त प्रदाता जीवनदाता" जिसके प्रोड्यूसर श्री अमृत सिन्हा जी और डाईरेक्टर आनंद दास गुप्ता जी तथा ऐसोसिऐट डाईरेक्टर आकांक्षा सक्सेना | इस आदर्श फिल्म को सबसे पहले रिलीज बीजेपी के सांसद राज्यसभा सदस्य आदरणीय आर.के.सिन्हा जी ने किया और रक्तदान कैम्प की अगुहाई भी की और देश की सबसे बड़ी शख्शियत श्री लालबहादुर शास्त्री जी की पुत्र बधु आदरणीय नीरा शास्त्री जी ने भी इस फिल्म की तारीफ की और रक्तदान सभा में आकर सभी का हौंसला बढ़ाया | अगर ऐसे ही देश के उच्चपदाशीन नेता और मंत्री लोग इसी तरह से रक्तदान कैम्प में आकर सभी का उत्साहबर्धन करें तो निश्चित ही देश में रक्त दान के प्रति लोगों की सोच सुधरे और अगर देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी को यह फिल्म दिखाई जाये और अगर देश के प्रधानमंत्री आदरणीय नरेन्द्र मोदी जी जनता में यह संदेश दें कि रक्तदान करने से कोई खतरा नहीं बल्कि यह शरीर को रोगमुक्त रखता है तो प्रधानमंत्री जी की बात का समाज में गहरा असर होगा | क्योंकि रक्तदान के प्रति जागरूकता प्रचार और प्रसार से ही लायी जा सकती है जो आज बहुत जरूरी है जिससे समाज में रक्तदान के प्रति जागरूकता बढ़ेगी और लोगों की सोच सकारात्मक होगी |क्योंकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मानक के तहत भारत में सालाना एक करोड़ यूनिट रक्त की जरूरत है लेकिन उपलब्ध 75 लाख यूनिट ही हो पाता है। यानी क़रीब 25 लाख यूनिट रक्त के अभाव में हर साल सैंकड़ों मरीज़ दम तोड़ देते हैं। भारत की आबादी भले ही सवा अरब पहुंच गयी हो पर रक्तदाताओं का आंकड़ा कुल आबादी का एक प्रतिशत भी नहीं पहुंच पाया जो बहुत दुखद है | अत: यह पहल हम और आपको ही करनी होगी क्योंकि असमय दुर्धटना और बीमारी का शिकार कोई भी हो सकता है और उसी समय मदद मिल सके| किसी का जीवन बच सके इसकी शुरूवात की रेखा हम और आपके सोच के केन्द्र से ही जाती है | आज भी बहुत ऐसे नेक लोग मौजूद हैं समाज में जो रक्तदान की विश्व व्यापी मुहिम चला रहें हैं और जिसको भी रक्त की आवश्यकता है उसको रक्त मुहैया कराते हैं |ऐसी ही नोयड़ा की कुशल डाक्टर और महान समाज सेविका आदरणीय रेनू वर्मा जी हैं जो वोल्युन्टियर ब्लड डोनर नाम का ग्रुप बनाकर हर रक्तपीडित की निशुल्क मदद कर रही हैं जो हमारे समाज के लिये आदर्श डाक्टर है जिनके जागरूकता अभियान ने अभी 29 मई में नोयड़ा में लगे कैम्प में करीब 220 लोगों  ने रक्त दान किया और अभी भी संजय श्रीवास्तव नाटी जैसे तमाम यूथ, सोसल वर्कर उनके साथ है और वह 24 घण्टे समाज के लिये कार्य कर रही हैं | तो आइये हम सब भी नुक्कड़ नाटक के जरिये, बस में ट्रेन में , सोसल साईट्स पर लोगों को जागरूक करें कि रक्त दान से कोई कमजोरी नहीं आती बल्कि रक्त दान करने वाला सदा निरोगी रहता है उसे हृ्दय की कभी कोई बीमारी नहीं होती कभी भी कैंसर नही हो सकता | रक्तदान करने से आयरन का लेवल कम हो जाता है और कैंसर का खतरा 95 प्रतिशत कम हो जाता है। एक सामान्य मनुष्य में पांच से छह लीटर रक्त होता है। रक्तदान के दौरान मात्र 300 मिलीलीटर रक्त लिया जाता है। शरीर इस रक्त की आपूर्ति मात्र 24 से 48 घंटे में कर लेता है। दोस्तों प्रत्येक मनुष्य के शरीर में उसके वजन का सात प्रतिशत रक्त होता है। आधा लीटर रक्त तीन जिंदगियाँ बचा सकता है।
दोस्तों यही जागरूकता हम सब मिलकर अपने दोस्तों और समाज में अपने-अपने तरीके से सभी तक पहुंचा सकते हैं | आपका एक मेसेज, एक सही कदम समाज में क्रांति ला सकता है एक बड़ा बदलाव ला सकता है जो किसी का जीवन बचा सकता है | दोस्तों आपके द्वारा की गयी चर्चा से किसी का जीवन बच सकेगा क्योंकि किसी के जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण और कुछ भी नहीं हो सकता |

रक्तदान की करें हम चर्चा
मन से दूर हों सब आशंका

आईये करें हम रक्तदान
जीवन सुन्दर बने महान




आकांक्षा सक्सेना
स्क्रिप्ट राईटर,
फिल्म डाईरेक्टर,पत्रकार
ब्लॉगर 'समाज और हम'
राष्ट्रीय युवा सचिव कायस्थ महासभा

Comments

  1. ������������������������������������
    *जीवन रक्षक संजीवनी की-नई-पहल..*
    यदि आपको रक्त की ज़रूरत है तो 24 hours कभी भी इन
    नम्बर पर:-
    ����जयकांत_बाबा_जी:- 08085046615
    ����विवेक_गुप्ता_जी:- 09826341415
    ����अजय_भदौरिया_जी:- 094257 17990
    ����कुँवर_प्रशांत_सिंह_तोमर_जी :- 08823836736
    ����शेलेन्द्र_सिंह_भदौरिया_जी:08109050536
    ����अरविन्द_राजावत_जी:08817655500
    ����बबलू_तोमर_जी:- 094257 82798
    ����अरविन्द_सेंगर_जी:- 91-79-655335
    ����मोहीत_दूदानी_जी:- 095-75-130567
    ����अमित नायक जी:- 08602-700700
    ��शिवराज सिकरबार जी:-
    9425187773
    पर फ़ोन करें यदि आपको खून की आवश्यकता है. 2 घंटे में आपको खून उपलब्ध कराया जाएगा अतः अब
    _आपको रक्त के लिए भटकने की आवश्यकता नहीं। यह सेवा पूरी तरह निःशुल्क है इसका कोई भी चार्ज नहीं है इस सेवा का लाभ उठाने के लिए आप ऊपर दिए गए नंबर फ़ोन लगा सकते है और आप रक्त संबंधी सहायता ले सकते हैं। ये पोस्ट को करने के पीछे एक उद्देश्य है की किसी भी_ _जरूरतमंद को समय पर खून मिल जाए अगर आप को ये पोस्ट फॉरवर्ड करने के लायक लगता है तो अन्य ग्रुप में जरूर करे_

    यदि आप रक्तदान का पुनीत कार्य करना चाहते है तो ऊपर दिए गए किसी भी नम्बर अपना नाम,ब्लडग्रूप,शहर का नामलिखकर वट'sउप पर या मेसिज के द्वारा भेजे आप को रक्तदान के पुनीत कार्य को करने के लिए जीवन रक्षक समूह(रक्तवीर )में जोड़ लिया जाएगा

    रक्तदान करके देखो अच्छा लगता है


    ����शिकस्त मौत को दे सकती है ऐ दोस्त दो बूँद तेरे ����रक्त की����
    ������������������������������������

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |