अब नीति आयोग होगा सख्त और सक्रिय : - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Wednesday, August 31, 2016

अब नीति आयोग होगा सख्त और सक्रिय :






अब होगा भारत का नीति आयोग सक्रिय
....................................................

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्रनाथ दामोदरदास मोदी जी भारतीय जनजीवन का सृजनशील कायाकल्प पूरी तरह से करना चाहते हैं | वे भारतीय जनजीवन को पूरी तरह से अनुशासित, शिक्षित, संगठित, अपराधमुक्त, रोजगारयुक्त, गोरवशाली , प्रतिभाशाली, मर्यादाशाली , सृमद्धिशाली, वैभवशाली , विकासशील एंव शक्तिशाली बनाना चाहते हैं | उन्हें यह तथ्य भलींभांति मालूम है कि भारतीय जनजीवन को अपराधमुक्त एंव रोजगारयुक्त किये बिना सभी का साथ व सभी का विकास सम्भव नहीं | यही तथ्य उन्होनें देश के नीति आयोग टीम के प्रत्येक नीतिकार को भलींभांति समझायी है | लिहाजा देश के नीति आयोग टीम प्रत्येक नीतिकार को चाहिये कि वह नेकनियति व नेकनीति के तहत अपनी नेक व एक योजना भारतीय जनजीवनहित में व उसके न्यायहित में ऐसी बनायें जिसके तहत भारत के प्रत्येक विवाहित, अविवाहित व मृतक भारतीय नागरिक को उसके विवाह, जन्म व मृत्यु का पंजीकरण, बीमाकरण व लाईसैंसीकरण का प्रमाणपत्र व पहिचानपत्र अनिवार्य एंव परमावश्यकरूप से प्राप्त हो और यह दस्तावेज भारतीय नागरिकों के पहिचान के सभी प्रकार के राजनीतिक समाजी सरकारी व मतकारी, आर्थिक समाजी अर्धसरकारी व कर्मचारी एंव सामाजिक समाजी निजीकारी व श्रमकारी दस्तावेजों में अनिवार्य एंव परमावश्यकरूप से दर्ज हो जिससे कि प्रत्येक भारतीय नागरिक का तीनों प्रकार का भारतीय जनजीवन वैधानिक, संवैधानिक व कानूनीरूप से भारतीय उत्तराधिकारित, राष्ट्रीय मानवाधिकारित एंव भारतीय सर्वोच्च निर्णायक निर्विवादित पूरी तरह से अपराधमुक्त हो | जिससे कि प्रत्येक भारतीय नागरिक को अपने जीवन का सृजनशील उद्धेश्य पूरा करने हेतु उसे उसकी इच्छा व योग्यतानुसार बिना किसी बाधा के समान सरकारी व मतकारी व अर्धसरकारी व कर्मचारी एंव निजीकारी व श्रमकारी आजीविका व पैंसन तथा समान बुनियादी सेवायें व सुविधायें अनिवार्य एंव परमावश्यकरूप से प्राप्त हों तथा ये नागरिक पूरी तरह से रोजगारयुक्त हों | प्रधानमंत्री जी के विजन को पूरा करने हेतु इस नेक व एक योजना के क्रियान्वयन के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं | भारत में संसाधनों की कमी नही, कमी है सिर्फ नेक नियत व नेक नीति के कुशल योजनाकारों की | भारत के प्रधानमंत्री जी ने जो दिशा निर्देश भारत के नीति आयोग की टीम को दिये हैं वे प्रासांगिक, साहसिक व स्वागतयोग्य है | इस सिस्टम से देश की अदालतों में करोड़ो विचाराधीन मामले तुरन्त निर्णीत होगें और देश में दस्तावेजी लावारिस निरीह असहाय पशु पक्षियों की भांति मानव तस्करी नहीं होगी|


आकांक्षा सक्सेना
ब्लॉगर समाज और हम
सह संपादक सत्य की दस्तक
विशेष संवादाता आमजा भारत न्यूज पोर्टल



1 comment:

  1. Fabullous blogs ...
    Keep it up Akansha Good Going ...😊😊👍👌
    Amazing step .. I'll always be there to support you ...
    All the best 😘😘

    Kailash ..

    ReplyDelete