Breaking News

'खूबसूरत धुंध' ✍️(blogger akanksha SAXENA)



खूबसूरत घुंध

__________

मेरी अखियों में वो ख्वाब सुनहरा था

मेरे ख्वाब को कोमल पंखुड़ियों ने घेरा था

वदन को उसका आज इंतजार गहरा था

खिंचने लगी बिन डोर उसकी श्वांसों की ओर

मेरी श्वासों ने चुना वो शख्स हीरा था





आज की शाम बेहद नशीली थी

उसकी आहटों की सुंगध सी फैली थी

क्या पता था आज क्या मिलने वाला था

दीदार उसका किसको होने वाला था 

उसकी परछाईं मेरी परछाईं से टकरा गयी 





मेरी हर श्वांस उसकी श्वांस में समा गयी

बाद में वो परछाईं पानी में टकराने लगी

नियत उसकी दिले आईने में नजर आने लगी

उसकी नजरें हृदय के पार न जा सकीं

उसकी सारी बातें हारे दिल से हार गयीं




जाग उठी बेगैरत ख्वाब  से जल्दी

हँस पड़ी हँसते दर्द से आँखें अपनी

चमक में हीरा पर श्वाद जहरीला था

छै घंटे की नींद को एक ख्वाब ने घेरा था

मुझे तो हुआ मात्र एक भ्रम था

वो तो सिर्फ़ एक खूबसूरत धुंध था। 


- ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना 







http://www.uttarakhandmirror.com/literature/verse-compilation/beautiful-oven/




          ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना

10 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "मुखरित मौन में" शनिवार 16 मार्च 2019 को साझा की गई है......... https://mannkepaankhi.blogspot.com/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से शुक्रिया दी 🙏 पर हमें दिख नहीं रही हमने चैक की 🙏

      Delete
  2. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया अनुराधा जी🙏💐

      Delete
  3. Replies
    1. तहे दिल से शुक्रिया अनीता जी🙏💐

      Delete
  4. गहरी सोच से उपजी अच्छी रचना है ...

    ReplyDelete