Sunday, September 9, 2012

आज इंसानियत शर्मसार है


काम करने के लिए दिमाग का प्रयोग किया जाता है....
काम पूरा करने के लिए इंसान का प्रयोग किया जाता है....
और दोस्तों आज काम को काम में बदलने के लिए भी
इंसान का उपयोग किया जाता है .......

क्या खुद को इंसान
हने में लाज नहीं आती है.........
आज बेटियों को होटलों में किसी अच्छे सूप और
रोटी की तरह परोसा जा रहा है
फिर भी देखना बच जायेंगे
पैसे की दम पर
ये गुनाह करने वाले
सरकार क्या कर रही है कि
आज इंसानियत भी शर्मसार है ....)

No comments:

Post a Comment