श्री कृष्ण जिन्हें बनाते हैं ...
....................
श्री कृष्ण जिन्हें बनाते हैं उन्हें कोई नहीं मिटा पाए 

श्री कृष्ण जिन्हें उठाते हैं उन्हें कोई नही गिरा पाए

  श्री कृष्ण हरे गोविन्द हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे ।।


भगवन जिनके हो जाते हैं उन्हें कोई नही सता पाए 

भगवन जिनको हँसाते हैं उन्हें कोई नहीं रुला पाए 


  श्री कृष्ण हरे गोविंद हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे ।।


श्री कृष्ण जिन्हें बुलाते हैं उन्हें कोई नही रुका पाए

श्री कृष्ण जिन्हें मिलाते हैं उन्हें कोई जुदा न कर पाए

  श्री कृष्ण हरे गोविंद हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे ।।


प्रभु दर्शन जिनको कराते हैं उन्हें कोई नहीं समझ पाए

परमानंद मैं जो खो जाते हैं उन्हें कोई नहीं डिगा पाए 


  श्री कृष्ण हरे गोविंद हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे ।।


प्रभु मित्र जिनको बनाते हैं सुदामा से तर जाते हैं 

प्रभु रिश्ता यूँ निभाते हैं बालक ध्रुव,प्रहलाद कहलाते हैं

  श्री कृष्ण हरे गोविंद हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे।। 


प्रभु रक्षा वचन जो निभाते हैं द्रोपती की लाज बचाते हैं 

संतो की वाणी मैं आकर प्रभु मानवता धर्म सिखाते हैं


  श्रीकृष्ण हरे गोविंद हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे ।।


प्रभु हृदय मैं जिसको बसाते हैं वो हरिभक्त कहलाते हैं 

भक्तों की सुन करूँण पुकार प्रभु बस दौड़े -दौड़े आते हैं 

श्री कृष्ण हरे गोविंद  हरे गोपाल हरे श्री कृष्ण हरे ।।

.......................................
     


  ................................ आकांक्षा सक्सेना 

                                    बाबरपुर ,औरैया 

                                    उत्तर प्रदेश                                                              

                                     

                                                

Comments

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |