स्वप्न




            LoIu

||कुछ स्वप्न इतने ज़ालिम होते हैं कि स्वप्न को ही एक स्वप्न बना कर छोड़ देते हैं||  


vkdka{kk lDlsuk ckcjiqj]vkSjS;k
¼mRrj izns’k½        

Comments

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......