घमंड काहे का सनम 
........................
घमंड  काहे का सनम 


साथ जाने को कुछ भी नहीं

पड़े यहीं सिंघासन सारे 

कभी बैठा करते थे शहंशाह 

घमंड कहे का सनम 

साथ जाने को कुछ भी नहीं 

खंड्हर बने महल 

वीरां पड़ीं वो हवेलियाँ 

कोई नही अपना कहने को 

झूठी हैं सारी पहेलियाँ


 घमंड काहे का सनम 


साथ जाने को कुछ भी नहीं 

खुद के अन्दर छिपा है बैठा 

जिसको आत्मा कहते हैं 

जन्मों-जन्मों से जिसको 

समझ न पाए हम 

क्या जानेगें इस दुनिया को 

जब खुद का अपना पता नहीं 

घमंड काहे का सनम 

साथ जाने को कुछ भी नहीं 

प्रेम का नाटक बहुत है 

घर मैं दफनाता कोई नहीं 

जब खुद के घर मैं 

खुद के लिए,

एक कोना तक नहीं 

फिर,घमंड काहे का सनम 

साथ जाने को कुछ भी नहीं ...


..
............................

आकांक्षा सक्सेना 

बाबरपुर,औरैया

उत्तर प्रदेश 

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

स्टार भारत चैनल का फेमस कॉमेडी सो बना 'क्या हाल मि. पांचाल' :

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |