Wednesday, November 21, 2012









                 

                 प्रणाम
     एक बहुमुखी प्रतिभा को
...........................
जिनके लिए कलम भी करती है इंतजार  

          जिनके लिए पन्ने रहते हैं बेक़रार
 
          जिनके लिए पल भी ताकते  हैं आसरा 

          जिनके लिए शब्द भी करते हैं श्रंगार 

          जिनके लिए बन जाती हर कविता रानी 

          जिनके लिए गज़लें भरतीं हैं पानी 

          जिनके  लेखन से सब होते हैरान
 
          जिनकी कलम मैं बसता है संसार 

ऐसे महान लेख़क को मिलता है सभी का प्यार 

इन पक्तियों मैं 

आदरणीय 'जीतेन्द्र देव पाण्डेय विद्यार्थी' जी को

  हमारा सादर प्रणाम 



                  













            

            

            आकांक्षा सक्सेना 

                                   बाबरपुर,औरैया 
                                    उत्तर प्रदेश 



                                                                                   

No comments:

Post a Comment