न्याय में देरी क्यों...


 माननीय प्रधानमंत्री जी से निवेदन है कि मुकदमें पाँच साल में फाइनल नहीं बल्कि और भी कम समय में फाइनल होने चाहिये| उत्पीड़ित,शोषित लड़कियों,महिलाओं और बच्चों के लिये ये समय बहुत ज्यादा है|

  अतः जब आज सभी कार्य आॉनलाइन हैं तो न्याय में इतनी देरी क्यों.,?



Comments

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

स्टार भारत चैनल का फेमस कॉमेडी सो बना 'क्या हाल मि. पांचाल' :

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |