बेटी को सम्मान दिलाना है,हमें बेटी को पढ़ाना है | - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Tuesday, April 28, 2015

बेटी को सम्मान दिलाना है,हमें बेटी को पढ़ाना है |










1 comment:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक स्लोगन...

    ReplyDelete