अन्न पूजनीय है,अन्न जीवन है और जीवन का एक सत्य भी...





Comments

  1. सच कहा है, लेकिन जिनकी थाली भरी हुई है क्या वे कभी ऐसा सोच पाएंगे...

    ReplyDelete
    Replies
    1. सच कहा आपने.......
      बहुत आभार...

      Delete
  2. सच अन्न की बर्बादी उसका सबसे बड़ा अनादर है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. सभी लोग साथ आयें तब काम बने....

      Delete
    2. घन्यवाद कविता जी.....

      Delete
    3. Thanks for reading Blog........SIR

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |