Tuesday, November 14, 2017

एक लिफापा मदद वाला /सेवा ही धर्म

"सेवा ही सुकून"

चलो घर से बाहर निकला जाये
सच को देखा,समझा जा़ये |
चलो घर से बाहर निकला जाये
सच को शीष नवाया जाये |

ब्लॉगर
आकांक्षा सक्सेना
































...🙏धन्यवाद भगवान🙏...

1 comment:

  1. वाह! बहुत सुन्दर आकांक्षा| मन गद्गद् हुआ देखकर|

    ReplyDelete