Monday, September 17, 2012

KON?

............................................................................   
                           कौन 
.................................................................................
जिन्दगी मिली तो हसता था कौन 
दुनिया मै आये तो लाया है कौन

            किसने बताया यहा  कौन है कौन 
            नन्हे -नन्हे वदन को बडा करता है कौन 

नन्ही -नन्ही चोटी,नन्ही -नन्ही पायल ...
सूरजमुखी से चेहरे को सूरज दिखाता है कौन 

            आज तुमने बडे होकर पाया है कौन 
            कौन को आज आखै दिखाता है कौन 

रातभर तुम तो सोये रात -रात जागा है कौन 
देर रात तुम घर न लौटे रात -रात भाग है कौन 
            
          कल नयी प्यारी से नाटक  कर लिया तुमने 
           रोज इज्जत,पैसा मेहनत का लुटाता है कौन 

बेशर्मि का दामन थाम के पाया तुमने है कौन 
आज,''तलाक ''के कागज पकडे खडा है कौन 

            माफी मागने के लिये देर  से सभले 
           अब,सामने सदा के लिये मौन हुआः है कौन 

आज ...बेबसी का दामन साधे खडा है कौन 
तुजे राह दिखानेवाला अब..आएगा कौन..?

..............................................................................
(2005)                                                    

                                                     आकांक्षा  सक्सेना , बाबरपुर औरैया ,उत्तर प्रदेश        














































No comments:

Post a Comment