TEACHER - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Friday, September 21, 2012

TEACHER

                  

                         हमारे अध्यापक 
  ******************************************  
                                    *
आप जैसे लोग ही बड़ी फुर्सत से बनाए जाते हैं 
जिसको भी मिल जायें
        वो किस्मतवाले कहलाते हैं ।।

जूठ -फरेबी से जिनका   नाता नही होता 
गुरु आप सा जिसको मिल जाए 
       वो सफल मुकाम पा जातें हैं ।।

कथनी और करनी मैं जो भेद नही करते 
आपका आशीर्वाद मिल जाए जिसको 
       वो,जीवन मैं  खुद के सहारे  होते है ।।

आप जैसा विनयी यूँ तो कठिनता से मिलता है 
कभी मिल जाए तो सचमुच 
       कोई पुण्य पुराने होते हैं ।।

आपकी  तारीफ करना भी संभव नहीं हो  पाता .....
क्योंकि खुद बनानेवाला भी सोचता है ......
         '''मैं भी आपका  शिष्य बन पाता '''"

******************************************
        गुरुओं  के लिए  जितना भी लिखा जाए कम है क्योंकि "गुरु''  महान  है,आज हम सभी जो भी है सब अपने गुरुओं  के कारण  ही  तो है।     

           ******ॐ श्री गुरुवे नमः *******

                                                आकांक्षा सक्सेना 
                                                 बाबरपुर,औरैया 
                                                  उत्तर प्रदेश                                       




******************************************


2 comments:

  1. माता-पिता और गुरु कभी अपने बच्चों का बुरा नहीं चाहते.

    ReplyDelete