ERADA... - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Sunday, October 7, 2012

ERADA...

                                  
                                    इरादा

.............................................................................
तू बर्बाद करने की हर कोशिश कर ले,हमें  रोकनेवाला 
हमारे मन के अलावा कोई दूसरा नहीं ......
                                                    आकांक्षा सक्सेना 
                                                    6अक्टूबर 2012
                                                    औरैया,उत्तरप्रदेश 

No comments:

Post a Comment