ESHE JIO - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Sunday, October 7, 2012

ESHE JIO

                                               
                                                  ऐसे जिओ 
.............................................................................

ऐसे जिओ की अपनी आंख का  पानी, किसी और  की आँखों से छलकने ना पाये ..........
                                            आकांक्षा सक्सेना 
                                             औरैया उत्तरप्रदेश 
                                              7/10/12
............................................................................

No comments:

Post a Comment