Wednesday, October 10, 2012

MAT GHABRAOOOO

                           सोचो 

.......................................................................

हंसी उड़ानी है तो खुद की उड़ाओ सोचो  कि हमने दूसरों पर हँसते वक्त हमने ख़ुद को ख़ुद से कितना नीचे गिरा दिया ।।

                                                     आकांक्षा सक्सेना 

                                                   औरैया, उत्तर प्रदेश 

No comments:

Post a Comment