नसीब - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Tuesday, December 18, 2012

नसीब






           
                                  नसीब 
                                                             
।।बड़े नसीब से इंसान मिला करते हैं वरना आज पत्थर भी बेइमान मिला करते हैं ।।






आकांक्षा सक्सेना

जिला -औरैया 
उत्तर प्रदेश 

No comments:

Post a Comment