Sunday, March 10, 2013



आज प्रेम को
....................




आज  जिस्म को ज़िस्म से इतना लपेटा जाता है,इतना लपेटा जाता है
 क़ि लिपट -लिपट कर घुटन से उसका दम उखड जाता है ।





आकांक्षा सक्सेना
जिला औरैया
४ मार्च 2013 

No comments:

Post a Comment