दरबाजे और चौखट का प्रेम


हाँ मैं दरबाजा हूँ मुझे अपने दरबाजा होने पर गर्व है उससे भी ज्यादा मुझे अपनी चौख़ट पर गर्व है जो मेरा वज़ूद है|

हाँ मैं चौखट हूँ बिना दरबाजे के मेरा भी कोई अर्थ नहीं..











Comments

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

स्टार भारत चैनल का फेमस कॉमेडी सो बना 'क्या हाल मि. पांचाल' :

सेलेब टॉक : टीवी सैलीब्रिटीस 'इकबाल आजाद' जी का ब्लॉग इंटरव्यू |