दरबाजे और चौखट का प्रेम


हाँ मैं दरबाजा हूँ मुझे अपने दरबाजा होने पर गर्व है उससे भी ज्यादा मुझे अपनी चौख़ट पर गर्व है जो मेरा वज़ूद है|

हाँ मैं चौखट हूँ बिना दरबाजे के मेरा भी कोई अर्थ नहीं..











Comments

Popular posts from this blog

एक अश्रुकथा / कथा किन्नर सम्मान की...

रोमांटिक प्रेम गीत.......