देश में गठित हो समान नागरिक आचारसंहिता : - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Sunday, August 27, 2017

देश में गठित हो समान नागरिक आचारसंहिता :



समस्त मतिदान पीड़ित मतिहीन हिन्दुस्तानी जनता को चाहिये स्वच्छ हिन्दुस्तानी समान नागरिक आचारसंहिता :


हिन्दुस्तान के समस्त मतिदान पीड़ित मतिहीन जनता को अपने हिन्दुस्तान के राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ परिवार के आदि परम्परागत स्वंयसेवी हिन्दू सर्वोच्च मुख्य न्यायाधीश के द्वारा अपने प्रधानमंत्री से अपने हिन्दुस्तानी स्वंय सहायक संघ परिवार के आदि परम्परागत स्वंय सहायक हिन्दु सर्वोच्च मुख्य सहायक न्यायाधीश चाहिये जो दोनों लोग मिलकर स्वच्छ हिन्दुस्तानी समान नागरिक आचार संहिता का गठन कर समस्त मतिदान पीड़ित मतिहीन हिन्दुस्तानियों को पुन: मतिवान बना सके जिससे कि सभी हिन्दुस्तानियों को अपने समान अधिकार व कर्तव्य प्राप्त हो सकें | यह कार्य बिना नेक व एक ईश्वरीय सहायक हिन्दुस्तान के सर्वोच्च मुख्य सहायक न्यायाधीश के, हिन्दुस्तान के सर्वोच्च मुख्य न्यायाधीश के द्वारा अकेले सम्भव नही है | क्योंकि बिना निराकार जीवात्मा स्वरूप सशक्तिवान मात्रशक्ति के आदि परम्परागत नेक व एक ईश्वरीय सहायक हिन्दुस्तान को सर्वोच्च मुख्य सहायक न्यायाधीश के सबूत के, साकार परमपिता परमात्मा स्वरूप सशक्तिवान पित्रशक्ति के आदि परम्परागत हिन्दुस्तान के सर्वोच्च मुख्य न्यायाधीश का कोई भी वजन एवं वजूद नही है | यदि ऐसा ना हुआ तो हिन्दुस्तान की समस्त मतिदान पीड़ित मतिहीन जनता अपने संविधान से प्राप्त अपने निजिता के मौलिक मताधिकार के तहत अपनी मति के दान का जिसे अनिवार्य नही किया जा सकता बहिष्कार कर देगी | तब, हिन्दुस्तान का सर्वोच्च मुख्य न्यायाधीश हिन्दुस्तान के प्रधानमंत्री से अपना नेक व ईश्वरीय सहायक हिन्दुस्तान के सर्वोच्च मुख्य सहायक न्यायाधीश को प्राप्त करेगा और तभी दोनो लोगों के द्वारा स्वच्छ हिन्दुस्तानी समान नागरिक आचार संहिता का गठन सम्भव होगा एवं तभी इसके द्वारा समस्त हिन्दुस्तानियों को अपने समान अधिकार व कर्तव्य प्राप्त होगें और तभी समस्त हिन्दुस्तानी अनिवार्य रूप से बिना किसी भेदभाव के शिक्षित, रोजगारयुक्त व न्याययुक्त होगें और तभी हिन्दुस्तान में मौजूद स्वदेशी एवं विदेशी सभी धर्मों एवं कर्मों के राजनैतिक समाज के लोगों का समस्त हिन्दुस्तानियों को मतिदान के द्वारा मतिहीन बनाने का पूर्व नियोजित धोखाधड़ी के विभाजन एवं विनाश का अपराधिक षड़यंत्र का अंत होगा और सभी हिन्दुस्तानियों का आपस में सबका साथ व सबका विकास होगा |


आकांक्षा सक्सेना
ब्लॉगर 'समाज और हम'

No comments:

Post a Comment