हमारे कथन (Our statement) - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Friday, April 27, 2018

4 comments:

  1. बहुत सुंदर ब्लॉग बिटिया आकांक्षा सक्सेना

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका ससम्मान आभार आदरणीय 🙏🙏🙏💐

      Delete
  2. मानवीय भावनाओं एवं संवेदना की ऐसी अच्छी प्रस्तुति कम दिखतीं हैं. संकलित करें एवं सहेज कर रखें। समयानुकूल इसे एक पुस्तक का स्वरुउ प्रदान करें.
    शुभकामनाएं
    -हरिहर सिन्हा

    ReplyDelete
  3. बहुत बढिया रचना...

    ReplyDelete