December 2012 - समाज और हम

समाज के समन्दर की मैं एक बूँद और प्रयास वैचारिक परमाणुओं को संग्रहित कर सागर की निर्मलता को बनाए रखना.

Sunday, December 30, 2012

December 30, 2012 1
।।हर घर में  बेटी है और हर चौहराहे पर बहशी है ।। आज जो माहोल हम देख रहें है वो शायद ही कभी हो होगा ।ये जो  दरिंदगी दिखाई ...
Read More

Sunday, December 23, 2012

December 23, 2012 1
     .............................. क्यूँ ? ............................                                                      ...
Read More

Saturday, December 22, 2012

December 22, 2012 0
                हे ! नाथ .................................. नाथों के नाथ  ओ!श्याम मनोहर  भक्तों की तुम  फटकार सुनो ...
Read More
December 22, 2012 1
गुरु अनंत गुरु कृपा अनंत  .................................... यह शब्द हम सभी धर्मों मैं अवतार लेने वाले महान  ...
Read More

Friday, December 21, 2012

December 21, 2012 0
India must now judge Mr. President of the now world crown for India only but also for justice is Fmus. Has proposed a longer feel the p...
Read More
December 21, 2012 0
Kaam சே தேரி guruvar krapa டயர்கள் ரஹே hamare பின் badlon guruvar si ஹோ ரஹி ஹே பாரிஷ் hrady நாடகம் AnnT deepon கி ஹோ ரஹி ஹை AB அவுர்...
Read More
December 21, 2012 0
గురు అన్నట్ గురు కరప అన్నట్ అన్నట్  ..................... గురువర్ తేరి కరప సే కామ్ బాన్ రహే హమరే  బిన బద్లోన్ క...
Read More

Wednesday, December 19, 2012

December 19, 2012 1
तुम्हारे देश की आत्मा  .............................. मेरे अन्दर जान फूंक दो,मैं भी  ज़िन्दा  हो जाऊँ  शब्दों मैं शब्दों को गू...
Read More

Tuesday, December 18, 2012

नसीब

December 18, 2012 0
                                                नसीब                                                                ।।बड़े नस...
Read More
December 18, 2012 0
                                 दोस्ती    ................................ दोस्त क्या होता है ये तुमसे मैंने जाना है  कि,दो...
Read More

Monday, December 17, 2012

December 17, 2012 1
                   सत्य ................................................... मिटा दे अपनी हस्ती को मिटा दे गुरुर की बस्ती को ।। फि...
Read More

Friday, December 14, 2012

December 14, 2012 0
बोलचाल मैं गालियाँ क्यों ? गाली भी एक फैशन है क्या ? ......................................... आज समाज में एक बात समान है ।व...
Read More

Tuesday, December 11, 2012

December 11, 2012 0
कानून के रखवालों का दर्द  ............................................................................................................
Read More